10 Lines on Bhagat Singh in Hindi | भगत सिंह पर 10 लाइन

10 Lines on Bhagat Singh in Hindi for Class 1, 2, 3, 4, 5 & 6 | भगत सिंह पर 10 लाइन

भगत सिंह भारत के एक महान स्वतंत्रता सेनानी एवं क्रांतिकारी थे।

भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर 1907 को वर्तमान फैसलाबाद, पंजाब प्रांत, पाकिस्तान में हुआ था।

उनके पिता का नाम किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती कौर था।

उन्हें शहीद-ए-आजम भगत सिंह के नाम से भी जाना जाता है।

भगत सिंह को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारियों में से एक माना जाता है।

उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

भगत सिंह प्रतिभाशाली, परिपक्व और निडर व्यक्ति थे।

वे एक प्रखर देशभक्त और जोशीले राष्ट्रवादी थे।

वह एक बहादुर युवा स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने अपना जीवन भारतीय स्वतंत्रता के संघर्ष के लिए समर्पित कर दिया।

भगत सिंह नास्तिक थे. उन्होंने 1930 में लाहौर सेंट्रल जेल में ‘मैं नास्तिक क्यों हूँ’ शीर्षक से एक निबंध लिखा था।

23 मार्च 1931 को भगत सिंह को राजगुरु और सुखदेव के साथ फांसी पर लटका दिया गया था।

कहा जाता है कि जब भगत सिंह को फांसी दी गई तो वे मुस्कुरा रहे थे।

न्याय के लिए और जुल्म के खिलाफ लड़ने वालों के लिए भगत सिंह का जीवन एक प्रेरणा है।

सुभाष चंद्र बोस ने कहा है कि: “भगत सिंह युवाओं में नई जागृति के प्रतीक बन गए थे।

उनके जन्म के समय उनके पिता किशन सिंह, चाचा अजीत और स्वर्ण सिंह जेल में थे।

10 Lines on Bhagat Singh in English

Bhagat Singh was an Indian revolutionary freedom fighter.

Bhagat Singh was born on 27 September 1907 in present-day Faisalabad, Punjab Province, Pakistan.

His father’s name was Kishan Singh and his mother’s name was Vidyavati Kaur. 

He is also known as Shaheed-e-Azam Bhagat Singh. 

Bhagat Singh is considered one of the most influential revolutionaries of the Indian Independence Movement.

He played an essential role in the Indian independence movement.

He was a brave young freedom fighter who dedicated his life to the struggle for Indian independence.

Bhagat Singh was an atheist. He wrote an essay titled ‘Why I am an atheist in the Lahore Central Jail in 1930.

On 23 March 1931, Bhagat Singh was executed along with Rajguru and Sukhdev. 

Bhagat Singh’s life is an inspiration to all those who fight for justice and against oppression. 

Subhas Chandra Bose said that: “Bhagat Singh had become the symbol of the new awakening among the youths.”

At the time of his birth, his father Kishan Singh, uncle Ajit and Swaran Singh were in jail.

5 Lines on Bhagat Singh in Hindi | भगत सिंह पर 5 लाइन

भगत सिंह एक महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और क्रांतिकारी थे।

भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर 1907 को एक सिख परिवार में हुआ था।

वह सबसे कम उम्र के स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे जिन्हें कम उम्र में ही फांसी दे दी गई थी।

23 मार्च को स्वतंत्रता सेनानियों भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धांजलि देने के लिए ‘शहीद दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

उनकी बहादुरी और निडर कार्यों ने कई लोगों को स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित किया. राष्ट्र उनके सर्वोच्च बलिदान के लिए हमेशा आभारी रहेगा।

5 Lines on Bhagat Singh in English

Bhagat Singh was a great Indian freedom fighter and revolutionary.

Bhagat Singh was born on 27 September 1907 in a Sikh family.

He was one of the youngest freedom fighters who was hanged at a young age.

March 23 is celebrated as Martyr’s Day to pay tribute to freedom fighters Bhagat Singh, Sukhdev and Rajguru.

His bravery and fearless actions inspired many people to join the freedom movement. The nation will always be grateful for his supreme sacrifice.

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा लेख 10 Lines on Bhagat Singh in Hindi for Class 1, 2, 3, 4, 5 & 6 | भगत सिंह पर 10 लाइन पसंद आया होगा. यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ साझा कर सकते हैं।

3 thoughts on “10 Lines on Bhagat Singh in Hindi | भगत सिंह पर 10 लाइन”

Leave a Comment