10 Lines on Major Dhyan Chand in Hindi | मेजर ध्यानचंद पर 10 लाइन

10 Lines on Major Dhyan Chand in Hindi | मेजर ध्यानचंद पर 10 लाइन 

मेजर ध्यानचंद एक भारतीय हॉकी खिलाड़ी थे।

उन्हें व्यापक रूप से इतिहास के सबसे महान फील्ड हॉकी खिलाड़ियों में से एक माना जाता है।

ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को प्रयागराज, उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ था।

उनके पिता का नाम समेश्वर सिंह और माता का नाम शारदा सिंह था।

उन्हें हॉकी का जादूगर भी कहा जाता है।

वह अपने असाधारण गेंद नियंत्रण और गोल स्कोरिंग कारनामों के लिए जाने जाते थे।

नीदरलैंड में हॉकी अधिकारियों ने एक बार उनकी हॉकी स्टिक को यह जांचने के लिए तोड़ दिया था कि कहीं अंदर चुंबक तो नहीं है।

उनका जन्मदिन, 29 अगस्त, भारत में हर साल राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

उन्हें 1956 में भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

ध्यानचंद के छोटे भाई रूप सिंह भी हॉकी खिलाड़ी थे. दोनों को ‘हॉकी ट्विन्स’ कहा जाता था।

ध्यानचंद ने 3 दिसंबर 1979 को अंतिम सांस ली. लीवर कैंसर के कारण उनकी मृत्यु हो गई।

भारत के सर्वोच्च खेल सम्मान, मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार का नाम उनके नाम पर रखा गया है।

ध्यानचंद महज 16 साल की उम्र में भारतीय सेना में शामिल हो गए थे।

कहा जाता है कि हिटलर उनके खेल से इतना प्रभावित हुआ था कि उसने ध्यानचंद को जर्मन नागरिकता की पेशकश की थी।

10 Lines on Major Dhyan Chand in English

Major Dhyan Chand was an Indian hockey player.

He is widely regarded as one of the greatest field hockey players in history.

Dhyan Chand was born on 29 August 1905 in Prayagraj, Uttar Pradesh, India.

His father’s name was Sameshwar Singh and his mother’s name was Sharadha Singh.

He is also called The Magician of Hockey.

He was known for his extraordinary ball control and goal-scoring feats.

Hockey authorities in the Netherlands once broke his hockey stick to check if there was a magnet inside.

His birthday is celebrated every year as National Sports Day in India.

He was awarded the Padma Bhushan, India’s third highest civilian honour, in 1956.

His younger brother, Roop Singh, was also a hockey player. The two were called the ‘hockey twins’. 

He died on 3 December 1979 due to liver cancer.

India’s highest sporting honour, Major Dhyan Chand Khel Ratna Award is named after him.

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा लेख 10 Lines on Major Dhyan Chand in Hindi | मेजर ध्यानचंद पर 10 लाइन पसंद आया होगा. यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment