10 Lines on Bal Gangadhar Tilak in Hindi | बाल गंगाधर तिलक पर 10 लाइन

10 Lines on Bal Gangadhar Tilak in Hindi | बाल गंगाधर तिलक पर 10 लाइन

बाल गंगाधर तिलक एक भारतीय समाज सुधारक, शिक्षक और स्वतंत्रता सेनानी थे।

उन्हें लोकमान्य तिलक के नाम से भी जाना जाता है।

बाल गंगाधर तिलक का जन्म 23 जुलाई 1856 को वर्तमान महाराष्ट्र, भारत में हुआ था।

उनके पिता का नाम गंगाधर तिलक और माता का नाम पार्वती बाई था।

उनके पिता एक स्कूल शिक्षक और संस्कृत के विद्वान थे।

जब वे सोलह वर्ष के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया था।

महात्मा गांधी ने उन्हें “आधुनिक भारत का निर्माता” कहा था।

वह उन स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे जिन्होंने पूर्ण स्वराज की मांग की थी।

उन्होंने ‘केसरी’ और ‘महरट्टा’ जैसे साप्ताहिक समाचार पत्रों की शुरुआत की थी।

केसरी में छपने वाले उनके लेखों की वजह से उन्हें कई बार जेल जाना पड़ा।

अंग्रेजों ने उन्हें “भारतीय अशांति का जनक” कहा था।

वह पुणे में फर्ग्युसन कॉलेज के संस्थापकों में से एक थे।

लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक, और बिपिन चंद्र पाल एक साथ ‘लाल-बाल-पाल’ के नाम से जाने जाते हैं।

वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सबसे प्रमुख नेताओं में से एक थे।

1 अगस्त 1920 को मुंबई में उनका निधन हो गया था।

10 Lines on Bal Gangadhar Tilak in English

Bal Gangadhar Tilak was an Indian social reformer, teacher and freedom fighter.

He is also known as Lokmanya Tilak. 

Bal Gangadhar Tilak was born on 23 July 1856 in present-day Maharashtra, India.

His father’s name was Shri Gangadhar Tilak and his mother’s name was Parvati Bai.

His father was a school teacher and a Sanskrit scholar.

His father died when he was sixteen years old.

Mahatma Gandhi called him “The Maker of Modern India”.

He was one of the freedom fighters who demanded Purna Swaraj.

He started weekly newspapers like ‘Kesari’ and ‘Mahratta’. 

The Britishers called him “The father of the Indian unrest”.

Lala Lajpat Rai, Bal Gangadhar Tilak, and Bipin Chandra Pal together are known as ‘Lal-Bal-Pal’.

He was one of the most prominent leaders of the Indian National Congress.

He died on 1 August 1920 in Mumbai.

5 Lines on Bal Gangadhar Tilak in Hindi | बाल गंगाधर तिलक पर 5 लाइन

बाल गंगाधर तिलक का जन्म 22 जुलाई 1856 को एक हिंदू परिवार में हुआ था।

उन्हें ‘लोकमान्य’ की मानद उपाधि भी दी गई थी, जिसका अर्थ है लोगों द्वारा प्रशंसित (या स्वीकृत)।

बाल गंगाधर तिलक को उनके प्रसिद्ध नारे “स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा” के लिए भी जाना जाता है।

1880 में बाल गंगाधर तिलक ने अपना खुद का अखबार “केसरी” शुरू किया था जो आज भी प्रकाशित होता है।

1890 में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए।

5 Lines on Bal Gangadhar Tilak in English

Bal Gangadhar Tilak was born on 22 July 1856 in a Hindu family.

He was also given the honorary title of ‘Lokmanya’, which means admired (or accepted) by the people.

Bal Gangadhar Tilak is also known for his famous slogan “Swaraj is my birthright and I shall have it”. 

In 1890, He joined the Indian National Congress.

He had three sons Rambhau Balwant Tilak, Vishwanath Balwant Tilak and Shridhar Balwant Tilak.

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा लेख 10 Lines on Bal Gangadhar Tilak in Hindi | बाल गंगाधर तिलक पर 10 लाइन पसंद आया होगा. यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ साझा कर सकते हैं।

2 thoughts on “10 Lines on Bal Gangadhar Tilak in Hindi | बाल गंगाधर तिलक पर 10 लाइन”

Leave a Comment